इस कहानी के पिछले भाग में जो भी बताया गया वो सभी Kalyan Matka से ही हुआ था लकड़हारे का. लकड़हारे की पूरी कहानी में Kalyan Matka से ही था. अब आगे की कहानी विस्तार से

जो की ये चौथा और अंतिम भाग है. लकड़हारे का Kalyan Matka से ही हुआ. लड़की अपने माँ के बातो का कोई जबाब नहीं देती है और अपने कामो में व्यस्त हो जाती है. तब उसकी माँ बोलते

है क्या वो बात हमें भी नहीं बताओगी. लड़की बोलती है ये बहुत सीक्रेट है और प्रॉमिस किया है की किसी और बाहरी को नहीं बताएगी.

Kalyan Matka

तब उसकी माँ बोलती है हम तो बाहरी नहीं हैं परिवार का ही हिस्सा हैं हमें तो बता सकती हो. तब लड़की बोलती है ठीक है बूत किसी और को मत बताना। उआकी माँ सहमत हो जाती है. तब वो

सारी बाते अपनी माँ को बता देती है. ये सभी बाते राजा की ख़ुफ़िया औरत सुन लेती है.

Kalyan Matka (Golden Matka) Full Story

दूसरे दिन लकड़हारे की लड़के की पत्नी अपने मायके से वापस आ जाती है. उसका लड़की उस दिन बहुत खुश रहता है और अपनी पत्नी को बोलता है चलो तुम्हे एक चीज दिखाना चाहता हूँ.

उसकी पत्नी जाती है तब वो लड़का वो सोने का मटका उसे दिखाता है और बोलता है तुम इस मटके से कुछ भी मांगो सब मिल जायेगा.

उसकी पत्नी ये मांगती है की उसे ऐसा कांच चाहिए जिसमे वो लाइव किसी को भी देख सके. तब उस मटके से एक pari निकलती है और वो ऐसा कांच प्रदान करती है जिसमे कही का भी लाइव

देख सकते हैं. इसके बाद वो pari गायब हो जाती है.

उसकी पत्नी काफी खुश हो जाती है और हमेसा अपने परिवार को लाइव देखती रहती है. दूसरे दिन ये बात लड़का अपने पिताजी को बताता है की वो ऐसी चीज माँगा है जिसमे वो किसी को भी

लाइव देख सकता है. तब लकड़हारा उस कांच को मांगता है और उस कांच में उस राजा को लाइव देखना चाहता है.

Matka (Golden Matka) ki Puri Kahani: read more

राजा का लाइव देखते ही ऐसा दृश्य दीखता है जिसे वो कभी सोच भी नहीं सकते उस लाइव में एक महिला थी जो राजा को उस गोल्डन मटके के बारे में बता रही थी. ये सुनके राजा उस औरत को

ढेर सारे पैसे देता है. और अपने मंत्रियों को आदेश देता है की लकड़हारे को गिरफ्तार किया जाये और उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी.

लकड़हारा ये सब देख बहुत दुखी हो जाता है. लकड़हारा अब बहुत बड़ा कदम उठाने जाता है. और उस गोल्डन मटके से बोलता है की वो जो जिंदगी जीना था वो सब जी लिया। और उसे फिर से

पहले जैसा बना दे जो वो था. ये सुनते ही मटके से एक pari निकलती है और लकड़हारे को जिसे पहले था वैसा बना देती है.

लकड़हारा फिर से वही पुराणी झोपड़ी में आ जाता है. उसे फिर से उसी पुराणी जिंदगी में आके बहुत अच्छा लगता है. राजा उस लकड़हारे को गिरफ्तार कर लेता है और उसको फिर से सही सही

पूरी कहानी बताने को बोलता है. लकड़हारा सारी बातें उसे बता देता है गोल्डन मट्केवाली.

मटका कहानी के अंतिम दौर में लोगों का लकड़हारे के लिए प्रेम

राजा बोलता है तुम्हे झूठ बोलने की कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी. महल के बहार लाखो लोगो जमावड़ा हो जाता है. सभी उस लकड़हारे के सपोर्ट में नारे लगाने लगते हैं. इतनी संख्या देख राजा के

पसीने छूट जाते हैं. सभी लोग उस लकड़हारे को अपना राजा बनाने को बोलने लगते हैं. धीरे धीरे कई गांव के लोग उसके महल को चारो तरफ से घेर लेते हैं. राजा के सभी सैनिक और दरबारी

लोग भी लकड़हारे के सपोर्ट में आ जाते हैं.

राजा को वहां से भागने के शिवा और कोई दूसरा चारा नहीं बचता है. राजा महल छोड़ के दूसरे स्क्रेट दरवाजे से भाग जाता है. वहा दरबार के मंत्री, सिपाही सभी लोग लकड़हारे को राजा मानने की

बात कह देते हैं. इतने सारे लोगो के सपोर्ट से वो लकड़हारा राजा बन जाता है. अपने प्रान्त का काफी तेजी से विकास करता है. आगे जाके वो कई प्रान्त का राजा बन जाता है.

एजुकेशन से रिलेटेड अधिक जानकारी के लिए: read more

अगर नियत और सोच सही हो और जीवन में मिले आशीर्वाद को सही से उपयोग में लाया जाये तो वो इंसान एक दिन इतिहास रचता है. सभी के जीवन में एक अच्छा मौका मिलता है उस मौके को

सही से उपयोग करना चाहिए.

KahaniinHindi एक यूनिक और नयी कहानी का एक बंच है. जहां पे आपको केवल नयी कहानी पड़ने को मिलेंगी. हमरा प्रयास है की हम ऐसे ही नयी कहानियों का सिलसिला जारी रखे और

आपके कुछ सुझाव हैं तो उसे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं और आगे हम उसको इम्प्लीमेंट करने की कोसिस करेंगे.

Read more: