आज हम जिन्न की कहानी बतानेवाले हैं. जिन्न की कहानी हम बचपन से अक्सर सुनते हैं. ये जिन्न की कहानी बिलकुल नयी और इंटरेस्टिंग है. जिन्न की कहानी तो अक्सर पढ़ें होंगे लेकिन ये बिलकुल अलग कहानी है.दिनेश अपने परिवार साथ एक गांव में रहता था। परिवार में पांच लोग और कमानेवाला सिफ एक आदमी। दिनेश छोटा मोटा काम करके अपना परिवार चलाता था. दिनेश के साथ उसका एक बेटा, दो बेटी और पत्नी रहा करती थी. दिनेश ज्यादा पढ़ा लिखा न होने के वजह से केवल मेहनती काम करके अपना गुजारा कर रहा था.

जिन्न की कहानी हिंदी में (Bhoot ki Kahani)

एक बार वो काम करने गांव से थोड़ी दूर गया जहा से आने में उसे रात हो जाती थी. काम से आते आते उसे ज्यादा रात हो जाती थी. आते टाइम रात में उसे रोज एक बरगद के पेड़ के पास एक बुड्डा आदमी मिलता था. वो जगह काफी दूर था गांव से, वहां आसपास कोई घर भी नहीं था. लेकिन दिनेश कभी डरता नहीं था उस बुड्ढे आदमी से.

जिन्न  की कहानी

दिनेश के परिवार की हालत काफी खराब हो गयी. उसके पास काम भी नहीं था की पैसे कमा के अपने परिवार का जीवन यापन कर सके. उसकी दोनों बेटियां भी काफी बड़ी थीं. उसे उनके शादी का भी टेंशन हो गया था. एक दिन काम की तलाश में गया लेकिन उसे वहां भी काम नहीं मिला. शहर से आते हो चुकी थी. ठण्ड का समय था. रास्ते में आते वक्त वो सोच रहा था की परिवार कैसे चलाएगा. घरवालों को क्या जबाब देगा.

प्रेरणा देने वाली हिंदी कहानी

दुखी मन से वो उस बरगद के पेड़ के पास पहुँच गया और वहीँ गया. तभी वहाँ कुछ समय बाद एक जिन्न प्रकट हुआ. जिन्न को देख के दिनेश थोड़ा भौचक्का हो गया. जिन्न बोला की डरों मत अब तक मुझसे नहीं डरे तो अब क्यों डर रहे हो. जिन्न दिनेश से बोला आज तुम इतना दुखी हो. दिनेश बोल रहा था तब जिन्न बोला डरों मत मै तुम्हे कुछ नहीं करूँगा.

दिनेश बोला मेरे पास काम नहीं है, अपने परिवार का कैसे पालन पोषण करूँगा. जिन्न बोला ठीक है ये तो जीवनचक्र है. तुम चिंता मत करो मै तुम्हारी मदद करने के लिए आया हूँ. जब तुम रात को आते समय इस रास्ते से गुजरते थे तो मई हमेसा तुम्हारे सामने आता था. लेकिन तुम एक बार भी मुझसे नहीं डरे.

जिन्न बोला मै तुमसे बहुत खुश हूँ मांगो तुम्हे क्या चाहिए. दिनेश बोला कुछ भी दे सकते हो तब जिन्न बोला मांगो मेरे बस में जो भी होगा सब दे सकता हूँ. तब दिनेश थोड़ा निठुर मन से बोला ठीक है इस समय मुझे पैसे जरुरत है तुम दे सकते हो. जिन्न बोला दे सकता हूँ लेकिन सर्त होगी.

तब दिनेश बोला कौन सी शर्त होगी सब मानूंगा. तब जिन्न बोला ठीक है आज से तुम जितना भी कमाओगे वो पैसे दस गुना बढ़ते रहेगा. लेकिन तुमसे ये बात कोई भी पूछे तो मत बताना। अगर तुमने बताया तो तुम उसी समय मर जाओगे.

जिन्न का वरदान अमीर बनाने का

ये बोल के जिन्न वहाँ से गायब हो जाता है. दिनेश वहां से उठकर अपने घर चला जाता है. जिन्न की बात ध्यान में रखकर वो छोटे मोटे काम भी करने लगता है. वो जो भी काम किये हुए पैसे रखता वो दस गुना बड़ जाता. धीरे धीरे वो काफी अमीर हो गया. उसने एक नॉन ऑफिसियल स्किम खोल दी की जो भी पैसे देगा वो दस दिन मे दुगुना देगा. बहुत से लोग उसके पास ज्यादा से ज्यादा रखने लगा. जो भी पैसे रखता वो दस गुना बढ़ जाता था.

एक बार इनकम टैक्स ऑफिसर ने दिनेश के घर रेड कर दिया. इनकम टैक्स अफसर ने दिनेश से पूछताछ करना सुरु कर दिया। इनकम टैक्स अफसर पूछते रहे की आखिर तुमने इतने पैसे कहाँ से लाये. दिनेश का जबाब होता की उसने अपने मेहनत से कमाया है. तब अफसर काफी सकती से पेश आने लगे. तब दिनेश को पूरी सच्चाई बतानी पड़ी. सच्चाई बताते ही वो उसी समय मर गया.

और भी कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करे:

शेर और चूहे की कहानी | Sher Aur Chuha Ki Kahani | motivational story in hindi

सेहत की जानकारी लिए

read more